बीजेपी की शर्मनाक हरकत: गरीब मजदूरों को सौ-सौ रूपये देकर रैली में भीड़ जुटाने में लगी भाजपा

नोटबंदी के फैसले बाद भारतीय जनता पार्टी खुद अब बेबस होती हुई दिखाई दे रही है, क्योंकि उनकी अब खुद की हालत ये हो रखी है की जनता के पास आखिर किस मुंह से वोट मांगने जाए। नोटबंदी के बाद सोशल मीडिया में अभी एक विडियो देखा गया था जिसमें बीजेपी के नेता सांसद जब बैंकों के बाहर लगे जनता से नोटबंदी से जुड़ी समस्या के बारें में हाल जानने पहुंचे तो वहां पर लोगों ने उसके सामने ही मोदी हाय-हाय के नारे लगाने शुरू कर दिए। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी का ऐलान किया था तब उन्होंने कहा था कि, इस वजह से देश में फ़ैल रहे काले धन पर रोक लगाई जाएगी।

मोदी के इस फैसले के कारण ज्यादातर लोग खुश भी हुए थे कि, इस फैसले के कारण कालेधन पर रोक लगाई जाएगी। लेकिन असल में होता क्या है कि, इस फैसले के कारण अमीर लोगों की अन्दर ही अन्दर सब सेटिंग कर लेते है लेकिन उसके बाद तो और ज्यादा निराशाजनक बात तब साबित हुई जब सेटिंग वाला काम की इजाजत खुद मोदी सरकार ने दे दी। और कहा कि, जो भी काला धन जमा करवाना चाहता है वह करवाए पचास फीसद सरकार को दे दे और पचास फीसद काले से सफ़ेद धन बनाकर घर ले जाये।

मोदी की इन्ही नीतियों के कारण यह साफ़ नजर आ रहा है कि, मोदी का यह प्लान पीटता हुआ नजर आ रहा है। और इसका नतीजा उत्तर प्रदेश के चुनावों में भी देखने को मिल रहा है। क्योंकि अभी हाल ही में जब नरेंद्र मोदी की रैली उत्तर प्रदेश के बहराइच में नरेंद्र मोदी को कम भीड़ होने के कारण वापस जाना पड़ गया था। इसके बाद जनता को निराश नहीं करने के कारण उन्होंने फ़ोन से रैली को सम्बोधित किया था। देश की जनता नरेंद्र मोदी ने जो जापान में जाकर नोटबंदी के दुसरे दिन बाद जो हंसी उड़ाई थी उसे भी देश कभी नहीं भूल सकता है।

भाजपा के रैली में होने वाली भीड़ की भी इस बार पोल खुलकर सामने आ गई है। नोटबंदी के बाद भाजपा की रैलियों में बहुत कम भीड़ दिखाई दे रही है और जगह-जगह मोदी सरकार के खिलाफ विरोध भी किया जा रहा है। इस विडियो में आप देख सकते है कि, रैली में भीड़ जुटाने के लिए भाजपा गरीब मजदूरों को 100-100 रूपये देकर भीड़ जुटाने में लगी हुई है। इस विडियो में इन लोगों ने गवाही दी है कि, रैली में जाने के लिए भाजपा के नेताओं ने उन्हें 100-100 रूपये के नोट दिए है।

Leave your reply