नोट नहीं बदलने पर आरबीआई के सामने इस महिला ने किया कपड़े उतारकर विरोध प्रदर्शन

 

नोटबंदी के बाद से भारतीय रिज़र्व बैंक साठ से ज्यादा बार अपने नियम बदल चुकी है जिसके कारण जनता को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने ऐलान किया था कि, आज मध्य रात्रि 12 बजे के बाद पांच सौ और एक हजार के नोट कानूनी रूप से अमान्य हो जायेंगे तब उन्होंने कहा था कि, 31 मार्च 2017 तक भारतीय रिज़र्व बैंक के कार्यालयों में भी जमा करवा सकते हैं। लेकिन 30 दिसंबर के बाद फिर से आरबीआई ने नियम बदलकर यह कह दिया कि, अब पूराने नोट नहीं लिए जायेंगे और सिर्फ उन्ही के रूपये मानी होंगे जो 8 नवंबर से लेकर अब तक भारत में नहीं था।

लेकिन यह बात तो मोदी जी ने अपने भाषण में नहीं की थी लेकिन बाद में भारतीय रिज़र्व बैंक ने इस नियम को लागू कर दिया गया। इस वजह से जनता को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि इनमें वह लोग भी शामिल है जो किसी वजह से अपने नोट नहीं जमा करवा पाए थे। कई लोग तो बहुत ज्यादा भीड़ होने के कारण नहीं जमा करवा पाए तो, कई लोग ऐसे भी है जिनके पैसे भूल में इधर-उधर रखे हुए थे लेकिन जब याद आया तो बैंकों ने ये पूराने नोट लेने बबंद कर दिए। इसलिए जनता इससे परेशान होकर भारतीय रिज़र्व बैंक के कार्यालयों के बाहर जनता प्रदर्शन करती हुई नजर आ रही है।

एक विडियो सामने आया है जो आजाद हिंदुस्तान के हर नागरिक के मुंह पर एक कड़ा तमाचा है। एक महिला जो कि, रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया पहुंची थी अपने पुराने नोट चेंज करवाने के लिए लेकिन उसे ऐसा करने के लिए उसको प्रतिबंधित किया गया और सबसे बड़ी बात तो यह है कि, आरबीआई पूराने नोट बदलने से इनकार कर रही है। इसलिए इस महिला ने विरोध प्रदर्शन करने के लिए विरोध का एक अलग ही तरीका अपनाया। इस महिला ने विरोध के लिए सरेआम अपने सारे कपड़े उतारने शुरू कर दिए। एक के बाद एक इस महिला ने अपने पूरे कपड़े उतार दिए। लेकिन आस-पास के लोग तो बस देखते ही रह गए क्योंकि उनके समझ से बाहर था कि, इस नाराज महिला के साथ क्या किया जाए।

पुलिसकर्मियों ने इस महिला को घसीटा और विरोध प्रदर्शन करने पर इसके साथ जबरदस्ती की और हाथापाई भी की। आरबीआई ने साफ़ इंकार कर दिया है कि, किसी के भी पुराने नोट अब नहीं बदले जायेंगे। लेकिन नाराज महिला ने गुस्से में विरोध प्रदर्शन करने के लिए अपने एक के बाद एक तमाम कपड़े उतारने शुरू कर दिए। इस विडियो में साफ़ जाहिर हो रहा है कि, आखिर एक हताश और परेशान हिन्दुस्तानी आखिर कार कहाँ तक जा सकता है? सरकार ने कहा है कि, आरबीआई कार्यालयों से नोट बदले जा सकते है लेकिन आरबीआई नोट बदलने से साफ़ इनकार कर रही है। नोटबंदी के बाद एक तरह से आजाद हिंदुस्तान के नागरिकों को एक तरह से गुलामी में जकड़ कर रख दिया है। एक महिला को ऐसे काम करने पर मजबूर होना पड़ रहा है जो कोई भी महिला ऐसा नहीं करना चाहेगी।

Leave your reply