राजदीप सरदेसाई ने कर दी मोदी की बोलती बंद, नहीं दिए सवालों के जवाब: देखे विडियो

नरेंद्र मोदी जिस तरह देश की जनता से लोकसभा चुनाव से पहले जो वादे किये थे, उन बड़े-बड़े वादों को एक को भी अभी तक पूरा नहीं किया है। नरेंद्र मोदी के सभी वादे जुमलों में बदलकर रह गए है। नरेंद्र मोदी के किये गए बड़े-बड़े वादों के कारण ही उनका सोशल मीडिया में खूब मजाक बनाया जाता है और उन्हें सोशल मीडिया में फेकू के नाम से जाना जाता है। अगर आप सोशल मीडिया में सिर्फ फेकू लिख देते है तो लोग समझ जाते है की यहाँ पर किस शख्स की बात हो रही है।

नरेंद्र मोदी अपने भाषण के कारण दुनिया भर में चर्चा में रह चुके है क्योंकि उन्होंने बहुत लम्बे-लम्बे भाषण दिए है। लेकिन जब राजदीप सरदेसाई जैसे ईमानदार शख्सियत और पत्रकार को जब उन्होंने इंटरव्यू दिया तो उनकी बोलती ही बंद हो गई। इससे पहले वर्ष 2007 में नरेंद्र मोदी ने करण थापर को एक इंटरव्यू दिया था जिसमें वह एक बात के चलते बीच में ही उठकर भाग गए थे।

हालाँकि, ये विडियो भी नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने से पहले का है और इसी इंटरव्यू में भी राजदीप सरदेसाई ने वैसा ही सवाल किया है जैसा सवाल करण थापर ने मोदी से किया था। वही सवाल राजदीप सरदेसाई ने ही दोहराया है लेकिन यहाँ भी इन्होने उसका कोई जवाब नहीं दिया। इसके अलावा चुनाव से पहले एक NDTV के पत्रकार को भी इंटरव्यू दिया था और उसमें भी उस पत्रकार ने गुजरात में हुए दंगो के बारें में उनसे बात की थी और उनसे यह पुछा था कि, क्या आपको इसके बारें में दुःख है? तो उन्होंने उस समय भी उस इंटरव्यू का कोई जवाब नहीं दिया था।

इस बार राजदीप सरदेसाई ने भी नरेंद्र मोदी से सवाल करते हुए यह पुछा था कि, “वर्ष 2007 में सोनिया गांधी ने आप पर इल्जाम लगाया था कि, मौत का सौदागर और इससे पहले भी आपके ऊपर इस मुद्दे पर आलोचना की जा चुकी है तो आप इसको किस तरह से देखते है?” नरेंद्र मोदी ने राजदीप सरदेसाई को उनके सवाल का जवाब न देते हुए इधर-उधर की बातें करने लगे और उन्हें ही कोश्ने लगे और उन्हें यह कहने लगे कि, राजदीप सरदेसाई की इस मुद्दे के कारण ही उनकी रोजी रोटी चलती है। इसके साथ ही यह भी कहा कि, इस मुद्दे के कारण राजदीप सरदेसाई को राज्यसभा की सीट भी मिलती है।

राजदीप सरदेसाई नरेंद्र मोदी से सवाल पूछते रहे गुजरात में हुए दंगो के बारें में उन्होंने सवाल पुछा लेकिन पत्रकार राजदीप सरदेसाई को उनका कोई जवाब नहीं मिला। राजदीप सरदेसाई ने उनसे कहा कि, “अगर आपको प्रधानमंत्री बनना है तो कहीं न कहीं आपको गुजरात में हुए दंगो के लिए माफ़ी मांगनी ही पड़ेगी तो क्या आपको लगता है कि, इस पर आप क्या कहना चाहेंगे?” लेकिन बार-बार राजदीप सरदेसाई के सवाल दोहराने पर भी उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।

loading...

Leave your reply