रवीश कुमार ने मोदी का पुराना विडियो दिखाकर खोल दी उसके झूठ की पोल

वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा वर्ष 2014 में हुए चुनाव से पहले जनता से ऐसे-ऐसे वादे किये थे कि, देश की जनता को ऐसे लगने लगा था कि, अब देश का भविष्य बदलने वाला है। इसलिए लोगों ने नरेंद्र मोदी पर विश्वास करते हुए मोदी को ही वोट दिया। क्योंकि नरेंद्र मोदी ने विदेशों में छिपा हुआ कालाधन सौ दिनों के अन्दर लाने के लिए वादा किया था। लेकिन अभी तक ढाई साल बीत चुके है देश की जनता अभी भी इस इन्तजार में है कि, विदेशों में छिपा हुआ कालाधन आएगा और उनके खातो में 15 लाख रूपये आयेंगे।

इसके अलावा नरेंद्र मोदी ने यह भी वादा किया था कि, वह देश से भ्रष्टाचार का सफाया कर देंगे, जितने भी गुनाहगार नेता लोग है उन पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्हें नेता के पद से हटा दिया जायेगा फिर चाहे वह नेता भारतीय जनता पार्टी से भी क्यों न जुड़ा हुआ हो। किसी भी पार्टी के नेता को नहीं  बख्शा जायेगा। गुनाहगार साबित होने पर उनको बर्खास्त किया जायेगा। ये वादा भी नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनने से पहले ही किया था, लेकिन नरेंद्र मोदी की यह बात भी एक जुमला ही निकली। चुनाव से पहले नरेंद्र मोदी ने जितने भी वादे किये थे सभी के सभी झूठें जुमले ही निकले।

लेकिन इन झूठों को पर्दाफाश करने के लिए रवीश कुमार कभी भी पीछे नहीं हटते है। रवीश कुमार ने नरेंद्र मोदी के इस झूठ का भी पर्दाफाश कर दिया। इससे पहले भी रवीश कुमार नरेंद्र मोदी के झूठ को कई बार पर्दाफाश कर चुके है। रवीश कुमार अपने प्राइम टाइम शो में इस बारें में कई बार चर्चा भी कर चुके है। ऐसा नहीं है कि, रवीश कुमार कि, नरेंद्र मोदी से कोई जाति दुश्मनी है लेकिन वह तो सिर्फ सच को उजागर करने और देश के सामने सच्चाई पेश करने के लिए हमेशा तत्पर रहते है।

इस बार भी रवीश कुमार ने नरेंद्र मोदी की पुरानी रिकॉर्डिंग दिखाते हुए नरेंद्र मोदी के झूठ का पर्दाफाश कर दिया है। नरेंद्र मोदी का ये भाषण उत्तर प्रदेश के हरदोई का है जहाँ पर वे जनता को संबोधित कर रहे थे। वहां पर उन्होंने अपराधिक मामलों वाले सभी सासंदों के बारें में एक प्रण किया कि, जनता की तपस्या वह बेकार नहीं जाने देंगे। रवीश कुमार ने उसकी याद दिलाते हुए कहा कि, अगर ये पहल नरेंद्र मोदी कर दे तो लोकसभा चुनाव वर्ष 2019 से पहले कई सांसदों की विदाई हो सकती है। आपको बता दे कि, बीजेपी के सबसे ज्यादा 58 सांसदों ने अपने हलफनामे में अपराधिक मामलो का ज़िक्र किया है वहीँ शिवसेना के 18 में से 15 का ऐसे मामलों का जिक्र किया है कांग्रेस के 44 में से 8 सांसदों ने ऐसा ज़िक्र किया है।

Leave your reply