महाराष्ट्र से साईकिल चलाकर बाँदा आये मजदूर ने लगाई फांसी

देश और दुनिया में फैली कोरोनावायरस के महामारी के बाद भारत में भी वैश्विक महामारी को देखते हुए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में लॉकडाउन लागू कर दिया था. मरीजों की संख्या और कोरोना से मौत के बाद लॉकडाउन लगातार बढ़ता चला जा रहा है.

लॉकडाउन-3 में देश के तमाम राज्यों से लगातार मजदूर अपने घर वापस लौटे. प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी ट्रेनें और बसें लगाकर तमाम श्रामिको को घर वापस बुला लिया है. कुछ मजदूर आदमी बिना सरकार और प्रशासनिक मदद के पैदल और साइकिलों से अपने घर गंतव्य स्थान पहुंच रहे हैं.

तमाम हादसों के साथ अब बांदा जनपद में मुंबई, महाराष्ट्र से साइकिल चला कर आए एक श्रमिक की आत्महत्या करने की घटना सामने आई है.

19 साल का था, 7 दिन पहले लौटा था

मामला बांदा जनपद के कमासिन थाना क्षेत्र के मुसीवा गांव से है. जहां पर मुंबई से सुनील उर्फ संजय पुत्र रामकरण पाल उम्र 19 वर्ष अभी 7 दिनों पहले अपने घर लौटा था. प्राथमिक जांच के बाद सुनील को होंम क्वारेंटाइन किया गया था.

अब अज्ञात कारणों के चलते सुनील ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है. घटना की जानकारी के बाद परिजनों में कोहराम मचा हुआ है. सूचना के बाद पुलिस भी मौके पर पहुंची है. शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है.

दोस्त ने बताया दर्द

मृतक युवक के दोस्त नवनीत ने बताया कि हम पांच लोग मुंबई से साइकिल से अपने घर लौटने के लिए मजबूर हो गए थे. जिस स्टील फैक्ट्री में काम कर रहे थे वहां पर न तो पिछला वेतन मिला था, न तो खाने-पीने व्यवस्था हो रही थी.

हालात देख के लग रहा था कोरोना बीमारी से तो नहीं लेकिन भूख से जरूर मर सकते हैं. हम लोग परेशान हो गए थे. मजबूरी में हम सभी 5 लोगों को साइकिल से अपने घर वापस आना पड़ा. घर वापस आने के बाद संजय मानसिक रूप से आर्थिक स्थिति से परेशान था और खर्चे के लिए भी पैसे नहीं थे.

स्टील फैक्ट्री से नहीं मिल रही थी तनख्वाह

उसने बताया कि जिस स्टील फैक्ट्री मे काम कर रहे थे, उसने भी हमारी सब की कई महीने की तनख्वाह नहीं थी, जिससे सभी लोग बहुत परेशान थे. सुनील ने तो घर से पैसा मंगाकर साइिकल खरीदी, जिससे वह लौटा.

शुरुआती जांच में आर्थिक रूप से परेशान था सुनील: थाना प्रभारी

मामले की जानकारी देते हुए विनोद सिंह थाना प्रभारी कमासिन ने बताया की म्रतक सुनील उर्फ संजय पुत्र रामकरन 19 वर्ष मुंबई से लौटा था, जिसके बाद गमछे से एक पिलर में लटककर आत्महत्या कर ली है. कुछ शुरुआती जानकारी के मुताबिक सुनील आर्थिक रूप से परेशान था. शव को कब्जे मे लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है.