केमिकल प्लांट में ज़हरीली गैस लीक से 11 की मौत, 1000 से ज्यादा अस्पताल में भर्ती

आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में स्थित आरआर वेंकटपुरम गांव में गुरुवार सुबह एक केमिकल यूनिट में हुए गैस लीक से एक बच्चे समेत 11 लोगों की मौत हो गई है। साथ ही करीब 1000 लोगों को इलाज के लिए किंग जॉर्ज अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

इन लोगों ने सांस लेने में परेशानी और आंखों में जलन की शिकायत की थी। बताया गया है कि केमिकल फैक्ट्री में पॉलिमर से जुड़े काम होते थे। ऐसे में गैस के जहरीले होने की आशंका जताई जा रही है।

आंध्र प्रदेश के डीजीपी डीजी सवांग ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि गैस लीक गुरुवार तड़के 3:30 बजे हुआ। एक व्यक्ति की फैक्ट्री से भागने के दौरान गिरने से मौत हो गई। लोगों को निकालने का काम अभी भी जारी है। लॉकडाउन की वजह से प्लांट कई दिनों से बंद था।

इस घटना के बाद गांव में लोगों के बीच हड़कंप मच गया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, फैक्ट्री के 3 किलोमीटर के दायरे में एक हजार से ज्यादा लोगों की तबियत खराब हुई है। चश्मदीदों के मुताबिक, उन्होंने कई लोगों को जमीन पर गिरे हुए देखा।

पुलिस का कहना है कि गैस रिसाव को बंद कर दिया गया। एनडीआरएफ की टीम तुरंत स्पॉट पर पहुंची। इस गैस लीक का असर ज्यादा से ज्यादा 1-1.5 किमी तक ही रहा। लेकिन गैस की गंध 2-2.5 किमी तर महसूस की गई। विशाखापत्तनम के कमिश्नर आरके मीणा ने बताया कि गैस लीक से प्रभावित लोगों की जांच के लिए हर हर घर को देखा जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विशाखापत्तनम में हुई गैस लीक की घटना के मद्देनजर नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट (NDMA) अथॉरिटी के साथ मीटिंग बुलाई है। पीएम ने कहा कि उनकी इस घटना पर नजर है। वे लगातार गृह मंत्रालय और NDMA के अधिकारियों से बातचीत कर रहे हैं। पीएम ने इस सिलसिले में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी से भी बातचीत की है।