राष्ट्रपति पदक से सम्मानित DSP ने कबूला, आ!तंकियों को दिल्ली पहुँचाने के लिए मिली थी इतनी मोटी रकम

राष्ट्रपति पदक से सम्मानित डीएसपी देविन्दर सिंह को शनिवार को दक्षिण कश्मीर में एक कार में दो ‘वांछित आ!तंकियों’ के साथ गिरफ्ता!र किया गया था। गिरफ्ता!री के बाद उन्होंने पूछताछ में बताया कि उन्हें आ!तंकियों को जम्मू और उसके बाद चंडीगढ़ पहुंचाने के लिए 12 लाख रुपये दिए थे।

इसके बाद आ!तंकियों की योजना दिल्ली जाने की थी। यह जानकारी आईजी (कश्मीर) विजय कुमार ने मीडिया को सोमवार को दी। खुफिया सूत्रों ने कहा कि आतंकवादियों ने गणतंत्र दिवस पर हम`ले करने की योजना बनाई थी।

बता दें कि गिरफ्ता!री के वक्त देविन्दर की तैनाती श्रीनगर हवाई अड्डे पर जम्मू-कश्मीर पुलिस की सुरक्षा और एंटी-हाईजैकिंग यूनिट में थी। सोमवार को डीएसपी को निलंबि`त कर दिया गया और आ!तंकियों के खिला!फ का!र्रवाई के लिए मिले राष्ट्रपति सम्मान सहित उनके सभी अवार्ड वापस लिए जाने की संभावना है।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की खबर के अनुसार पुलिस के अलावा आईबी, मिलिट्री इंटेलिजेंस, रॉ सहित कई खुफिया एजेंसियों ने देविन्दर से पूछताछ की। इंटेलिजेंस सूत्रों ने बताया कि पूछताछ में देविन्दर ने खुला!सा किया कि उन्होंने आ!तंकियों को श्रीनगर स्थित अपने इंदिरा नगर वाले घर में पनाह दी थी।

यह घर आर्मी के 15 कॉर्प्स हेडक्वार्टर के बगल में है। इसके बाद एक मारुति कार में वे आ!तंकियों के साथ जम्मू के लिए निकल गए। गाड़ी हिजबुल का एक सदस्य चला रहा था जो फिलहाल अंडरग्राउंड था।

इस बीच सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय इस मामले को एनआ!ईए को सौंप सकती है ताकि आ!तंकियों के मंसूबों और देविन्दर के आं!तक कनेक्शन का पता लगाया जा सके। साथ ही यह भी पता लग सके कि क्या देविन्दर ने पहले भी आ!तंकियों की मदद की है या नहीं।

देविन्दर के साथ गिरफ्तार किए गए दो हिज्बुल आ!तंकवादी दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के नाजनीपोरा के रहने वाले नावेद बाबू उर्फ बाबर आजम और उसके सहयोगी रफी अहमद राथर है।

इरफान शफी मीर के रूप में पहचाने जाने वाला हिज्बुल सदस्य शनिवार को पुलिस द्वारा पकड़े जाने के दौरान वाहन चला रहा था। इरफान शफी मीर अपने पासपोर्ट पर पांच बार पाकिस्तान की यात्रा कर चुका है।

दिलचस्प बात यह है कि पिछले हफ्ते केंद्र सरकार के निमंत्रण पर श्रीनगर का दौरा करने वाले 15 देशों के दूतों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए देविन्दर को ही ड्यूटी पर लगाया गया था।