मुंबई के एक अस्पताल में लाशों के बीच हो रहा कोरोना पीड़ितों का इलाज, विडियो देख भड़क उठे लोग

भारत में कोरोना से सबसे बुरी तरह प्रभावित राज्य है महाराष्ट्र। यहां 7 मई तक करीब 17 हजार से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। वहीं 650 से ज्यादा लोगों की मौत भी हो चुकी है। इन सबके बीच सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल हो रहा है।

वायरल वीडियो मुंबई के सायन अस्पताल का बताया जा रहा है। वीडियो में दिख रहा है कि अस्पताल के वार्ड में कोरोना पॉजिटिव मरीजों के बेड के पास ही कई शव रखे हुए हैं। शवों के बीच में ही मरीजों का इलाज चल रहा है।

वीडियो को महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे के बेटे और बीजेपी विधायक नितेश राणे ने भी ट्विटर पर शेयर किया है। नितेश ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा- सायन अस्पताल में शवों के साथ मरीज भी सो रहे हैं। यह अति है। यह कैसे प्रशासन है। बहुत ही शर्मनाक बात है।

इस वायरल वीडियो पर सायन हॉस्पिटल के डीन ने जवाब दिया है कि मृतकों  के परिजन शव लेने आ नहीं रहे तो आखिर अस्पताल प्रशासन क्या करे।

डीन के इस जवाब पर नितेश राणे ने लिखा- इस जवाब के बाद मुंबईवासी बीएमसी से क्या उम्मीद कर सकते हैं? निजी अस्पताल मरीजों को भर्ती नहीं कर रहे हैं और सरकारी अस्पतालों में हालात ऐसे हैं। क्या यह मेडिकल इमरजेंसी है!

वीडियो के सोशल मीडिया में आने के बाद लोग महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साध रहे हैं। लोग इसे असंवेदनशीलता व लापरवाही की हदों को पार करता हुआ दिल दहला देने वाला मामला बता रहे हैं। ऐसे लोग लिख रहे हैं कि कोरोना से पीड़ित मरीजों के पास ही शव रखे गए हैं..ये बेहद घातक भी हो सकता है।

कुछ दूसरे यूजर्स ने लिखा कि ज़रा सोचिए, इस वायरस से लड़ने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है मनोबल, तो क्या इस तरह मरीज़ों का मनोबल बढ़ेगा? आम लोगों के साथ ही राजनीतिक पार्टियां भी महाराष्ट्र सरकार और बीएमसी पर लापरवाही के आरोप लगाते हुए हमला बोल रहे हैं।