पंजाब विधानसभा में CAA के खि!लाफ आया प्रस्ताव, अकाली दल ने मु!स्लिमों पर कह दी ये बात

केरल के बाद पंजाब विधानसभा में नागरिकता संशोधन कानू!न के खि!लाफ प्रस्ताव पारित किया गया। विधानसभा में सीएए के खि!लाफ लाए गए प्रस्ताव का आम आदमी पार्टी ने समर्थन किया। वहीं एनडीए में शामिल शिरोमणि अकाली दल ने सीएए को र!द्द करने वाले प्रस्ताव का विरो!ध किया लेकिन ये जरूर कहा कि नागरिकता की लिस्ट में मुस!लमानों को भी शामिल किया जाना चाहिए। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि पंजाब सरकार, केरल की सरकार को सुप्रीम कोर्ट में सीएए के खि!लाफ ज्वाइन करेगी।

संसदीय कार्य मंत्री ब्र!ह्म मोहिंद्रा की तरफ से ये प्रस्ताव पेश किया गया। तीन घंटे की चर्चा के बाद इसे पारित किया गया। बता दें कि सीएए 31 दिसंबर 2014 से पहले भारत आए छह अल्पसं!ख्यकों हिं!दुओं, सिखों, बौद्धों, जैन, पारसियों और ईसाइयों को नागरिकता देने का प्रावधान करता है। इसमें तीन देश पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के अल्पसं!ख्यकों को शामिल किया गया है। विपक्षी पार्टी इस कानू!न का विरो!ध कर रही है। उनका कहना है कि ये कानू!न संविधान के खि!लाफ है। देशभर के अलग-अलग हिस्सों में इसको लेकर विरो!ध प्रदर्श!न जारी है।

राहुल गांधी को CAA के बारे में कोई ज्ञान नहीं- जेपी नड्डा

उधर दिल्ली में बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने शुक्रवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर नि!शाना सा!धते हुए कहा कि उनके पास संशोधित नागरिकता कानू!न का कोई ज्ञान और समझ नहीं है । साथ ही उन्होंने चु!नौती देते हुए कहा कि राहुल गांधी इस कानू!न पर 10 वाक्य बोलकर दिखाएं।

राहुल गांधी पर देश को गु!मराह करने का आ!रोप लगाते हुए नड्डा ने यहां एक समारोह में कहा कि नागरिकता संशोधन कानू!न पड़ोसी देशों के उन अल्पसं!ख्यकों के लिए है जिन्हें उन देशों में सालों तक धार्मि!क प्रता!ड़नाएं सहनी प!ड़ी हों और उन्होंने बाद में भारत में शरण ली हो। नड्डा ने कहा कि संशोधित नागरिकता कानू!न का विरो!ध कर रहे लोग वास्तव में देश को कमजो!र कर रहे हैं। उन्होंने यह आरो!प भी लगाया कि विपक्षी दलों के पास मोदी सरकार के खि!लाफ कोई मु!द्दा नहीं बचा है। सरकार ने 70 साल से अधिक समय से लंबित समस्याओं को छह महीने में सुलझा लिया।