स्टिंगऑपरेशन में ABVP कार्यकर्ताओं ने चौ!काने वाला बयान, दिल्ली पुलिस की खु!ली पोल

जेएनयू हिं!सा के आ!रोपियों को लेकर तरह तरह के दा!वे किए जा रहे हैं, लेकिन अभी तक यह नहीं पता चल सका है कि जेएनयू में छात्रों के साथ मा!रपीट करने वाले आ!रोपी कौन थे? शुक्रवार को इंडिया टुडे टीवी पर एक स्टिंग ऑपरेशन का प्रसारण किया गया ।

जिसमें दो एबीवीपी कार्यकर्ता यह बात स्वीकार कर रहे हैं कि जेएनयू हिं!सा में उनकी भूमिका थी। वहीं इस खु!लासे के बाद दिल्ली पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जो दा!वे किए थे, उन पर सवाल ख!ड़े हो गए हैं।

बता दें कि दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दा!वा किया था कि जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष समेत 9 लोगों पर हिं!सा करने का आ!रोप लगाया था। जिन लोगों की पुलिस द्वारा पहचान की गई, उनमें से अधिकतर वामपं!थी संगठनों से जुड़े छात्र हैं। पुलिस ने इस दौरान हिं!सा से जुड़ी कुछ तस्वीरें भी मीडिया को दिखायीं।

वहीं इंडिया टुडे टीवी के स्टिंग ऑपरेशन में बीए (फ्रेंच) के छात्र, जोकि खुद को एबीवीपी का कार्यकर्ता बता रहा है, उसने बताया कि उसने साबरमती हॉस्टल में हुई हिं!सा की अगुवाई की थी। स्टिंग में छात्र ने बताया कि “पेरियार (हॉस्टल) पर पहले हम!ला किया गया, जो कि उनके एक्शन का रिएक्शन था…मैंने साबरमती हॉस्टल पर ह!मले के लिए इक!ट्ठा किया।”

कथित एबीवीपी कार्यकर्ता ने बताया कि “उसने एक दोस्त को फोन किया, जो कि एबीवीपी का संग!ठन सचिव है। उसने बताया कि उसे एक दाढ़ी वाला व्यक्ति मिला, जो कि देखने में कश्मी!री लग रहा था। मैंने उसे पीटा और फिर पैर मा!रकर दरवाजा तो!ड़ दिया।”

वहीं एबीवीपी की राष्ट्रीय सचिव निधि त्रिपाठी ने स्टिंग में दिख रहे लड़कों के एबीवीपी से जुड़े होने से इं!कार किया है। निधि त्रिपाठी ने कहा कि यदि कोई दा!वा करता है कि वह एबीवीपी से है तो उसके कहने भर से वह एबीवीपी कार्यकर्ता नहीं हो जाता। वहीं इस स्टिंग के बाद दिल्ली पुलिस के दा!वे पर सवाल उठ गए हैं।

दिल्ली पुलिस ने जिन छात्रों पर हिं!सा फै!लाने का आरो!प लगाया था, उनमें जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष और एक काउंसलर को भी शामिल बताया था। पुलिस ने सबूत के तौर पर पोस्टर भी जारी किए थे। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के डीसीपी डॉक्टर जॉय टिर्की ने बताया कि जेएनयू के चार छात्र संगठनों AISF, AISA, SFAI और DSF विंटर सेशन के रजिस्ट्रेशन के खि!लाफ थे और इन छात्र संगठनों के कार्यकर्ताओं ने 3 जनवरी को सर्वर से छे!ड़छा!ड़ की थी, जिस दौरान ध!क्का-मु!क्की और हं!गामा भी हुआ था।

पुलिस के अनुसार, 4 जनवरी को फिर से सर्वर रूम में घु!सकर छात्र कार्यकर्ताओं ने सर्वर रूम में तो!ड़-फो!ड़ की थी। इसके बाद 5 जनवरी को हुई हिं!सा में यूनिवर्सिटी कैंपस में छात्रों के साथ मा!रपी!ट की घ!टना सा!मने आयी थी।